देश दुनिया विमर्श/अभिव्यक्ति

जब लव जिहाद हैं ही नहीं तो कानून बनने से परेशानी क्यों!

संजय तिवारी सोशल मीडिया पर कोई मुसलमान नहीं मिलेगा जो ईमानदारी से इस बात को स्वीकार करे कि लव जिहाद जैसी कोई बात भी होती है। लेकिन कोई सरकार अगर इसे रोकने के लिए कानून बना दे तो सब कानून को समाप्त करने के लिए कोर्ट कचहरी की शरण लेते हैं। लाखों रूपया खर्च करके […]

उत्तर प्रदेश-उत्तराखंड विमर्श/अभिव्यक्ति

लव जिहाद की यह कहानी आप भी जानिए

संजय तिवारी मुन्नीलाल कन्नौजिया की बेटी उमा देवी उरई में ग्राम सेसा की रहनेवाली है। मई 2018 में उसका संपर्क उरई के ही बजरिया मोहल्ला से आरिफ खान से हो गया। दोनों में प्रेम हो गया और आरिफ ने उसके सामने शादी का प्रस्ताव रख दिया। जब उमा ने आरिफ से शादी करने का फैसला […]

विमर्श/अभिव्यक्ति संस्कृति

भारत के विश्वगुरु का क्या है मतलब ?

संजय तिवारी असली विकास है मनुष्य की चेतना का विकास। भारत इसी विकास का आदिकाल से विश्वगुरु है। लेकिन चेतन व्यक्ति भोगवादी नहीं होता। जो समाज जितना चेतन होता है उतना ही त्यागवादी होता है। विकसित चेतना के लिए भोग विलास क्षण भंगुर है। भोग विलास करने के लिए मनुष्य की चेतना का पतन जरूरी […]

दिल्ली दरबार देश दुनिया बात-विचार विमर्श/अभिव्यक्ति

भारत में सरकार का मतलब ब्रिटिश उपनिवेश का वो ढांचा जो जनता को लूटने के लिए गढा गया

संजय तिवारी एक बार भाजपा के एक वरिष्ठ नेता कह रहे थे, मोदी को विरोध से कोई फर्क नहीं पड़ता। मोदी कहते हैं विरोधी अपना काम कर रहे हैं और मैं अपना। अगर विरोधियों की बात पर ध्यान दूंगा तो कभी काम नहीं कर पाऊंगा। जो नेता ये बात बता रहे थे किसी समय मोदी […]

विमर्श/अभिव्यक्ति

अरब देश के लोग भारतीय उपमहाद्वीप के मुसलमानों को दोयम दर्जे की नस्ल मानते हैं

संजय तिवारी सऊदी अरब, यूएई, ईरान, इराक, कुवैत, बहरीन या फिर तुर्की में कोई गैर मुस्लिमों को इस्लाम कबूल करवाने के चक्कर में नहीं पड़ता। खाड़ी देशों का संघर्ष मजहब का नहीं बल्कि नस्ल का है। इस्लाम उनके लिए डिबेट का हिस्सा नहीं है। उन्हें लगता है ये तो है ही। उनके लिए प्रमुख है […]

दिल्ली दरबार देश दुनिया बात-विचार राष्ट्रवाद विमर्श/अभिव्यक्ति

मान्यताओं के मकड़जाल में

संजय तिवारी “कुरान की छब्बीस आयतें आतंकवाद का कारण हैं।” ये कहना है वसीम रिजवी का। इसे लेकर उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दाखिल किया है। लेकिन जनहित याचिका दाखिल होने के बाद जिस तरह से मुसलमान बौखलायें हैं उसे देखकर लगता है कि कहीं कोई सच्चा मुसलमान रिजवी की हत्या न कर […]